आज भैया दूज के अवसर पर प्रातः 8 बजे शीतकाल हेतु भगवान केदारनाथ के कपाट हुए बंद।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि रुद्रप्रयाग:-

केदारनाथ धाम/ भैया दूज के अवसर आज प्रात: 8 बजे शीतकाल हेतु श्री केदारनाथ धाम के कपाट बंद हों गए हैं। सेना के बैंड बाजों की भक्तिमय धुनों के साथ कपाट बंद होने के बाद पंचमुखी चल विग्रह मूर्ति विभिन्न पड़ावों से होते हुए शीतकालीन गद्दी स्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में विराजमान होंगी।

यह भी पढ़ें 👉 : विजयपुर पाटिया में संपन्न हुआ पत्थर युद्ध बगवाल।

इस समय संपूर्ण केदारनाथ में बर्फ जमी हुई है। बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों के साथ ही देवस्थानम बोर्ड, जिला प्रशासन, तीर्थ पुरोहित, हकहकूकधारी, एवं स्थानीय श्रद्धालु कपाट बंद होने के साक्षी बने। हेलीकॉप्टर सेवा जारी।

यह भी पढ़ें 👉 : हल्द्वानी में भू-माफिया है बेखौफ, दिन दुनी रात चौगुनी रफ्तार से कर रहे हैं जमीनों पर कब्जा।

उत्तराखंड चारधामों में श्री गंगोत्री धाम के कपाट 4 नवंबर शीतकाल हेतु बंद हुए जबकि श्री यमुनोत्री धाम के कपाट आज 6 नवंबर, 20 नवंबर शनिवार भगवान बद्रीविशाल के कपाट शीतकाल, हेतु बंद होंगे। 22 नवंबर भगवान मद्महेश्वर जी के कपाट बंद होंगे। 25 नवंबर को होगा उखीमठ में होगा मद्महेश्वर मेला। इस बार साढ़े चार लाख से अधिक तीर्थ यात्री पहुंच है चार धाम जिनमें दो लाख चालीस हजार से अधिक तीर्थयात्रि भगवान केदारनाथ जी के दर्शन को पहुंचे।

यह भी पढ़ें 👉 : सितारगंज के बहुचर्चित होटल से एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने छापेमारी कर तीन जोड़ों को पकड़ा संदिग्ध हालात में।

उत्तराखंड चार धामों में प्रसिद्ध ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट आज भैया दूज पर्व पर वृश्चिक राशि अनुराधा नक्षत्र में समाधि पूजा-प्रक्रिया के पश्चात विधि-विधान से शीतकाल के लिए बंद किये गए। बर्ह्यमुहुर्त से कपाटबंद होने की प्रक्रिया शुरू हो गयी थी। प्रातः 6 बजे पुजारी बागेश लिंग ने केदारनाथ धाम के दिगपाल भगवान भैरवनाथ का आव्हान कर धर्माचार्यों की उपस्थिति में स्यंभू शिव लिंग को विभूति तथा शुष्क फूलों से ढककर समाधि रूप में विराजमान किया।

यह भी पढ़ें 👉 : कुमाऊं के पर्वतीय क्षेत्र में यहां आया अजीबोगरीब मामला सामने, धनतेरस पर खरीददारी करने गई लड़की हुई गायब, फिर पिता को आया फौन मैंने प्रेम विवाह कर लिया है।

ठीक सुबह 8 बजे मुख्य द्वार के कपाट शीतकाल हेतु बंद कर दिये गये। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु कपाट बंद होने के साक्षी रहे। बर्फ की सफेद चादर ओढ़े केदारनाथ धाम से पंच मुखी डोली ने सेना के बैंड बाजो की भक्तमय धुनों के बीच मंदिर की परिक्रमा कर विभिन्न पड़ावों से होते हुए शीतकालीन गद्दी ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ हेतु प्रस्थान हुई।

यह भी पढ़ें 👉 : नारायण बगड़ की बिटिया बनेंगी डॉक्टर पिता ने संभाला है देश की सुरक्षा का जिम्मा।

केदारनाथ धाम के कपाट बंद होते समय उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सदस्य श्रीनिवास पोस्ती व देवस्थानम बोर्ड सदस्य आशुतोष डिमरी, एवं आयुक्त गढ़वाल एवं देवस्थानम बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन, जिलाधिकारी मनुज गोयल, देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी डी सिंह, पुलिस अधीक्षक आयुष अग्रवाल उप जिलाधिकारी जितेंद्र वर्मा, जल विद्युत निगम डीजी के के बिष्ट एवं अनुराग बिष्ट देवानंद गैरोला, केदार सभा अध्यक्ष विनोद शुक्ला, एवं योगेंद्र सिंह, शिव सिंह रावत, सहायक अभियंता गिरीश देवली, पुलिस चौकी प्रभारी मंजुल रावत, मंदिर प्रशासनिक अधिकारी यदुवीर पुष्पवान, प्रभारी लेखा अधिकारी आर सी तिवारी, धर्माचार्य औंकार शुक्ला प्रबंधक अरविंद शुक्ला एवं प्रदीप सेमवाल आदि मौजूद रहे। भगवान केदारनाथ की पंचमुखी डोली ने मंदिर की परिक्रमा के बाद जय श्री केदार के उदघोष के बाद पहले पड़ाव रामपुर के लिए प्रस्थान किया।

यह भी पढ़ें 👉 : विधायक हरीश धामी एकबार फिर बैठेंगे धरने पर जानिए वज़ह।

कल 7 नवंबर डोली विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी प्रवास हेतु पहुंचेगी। 8 नवंबर को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी डोली पंच केदार गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में विराजमान हो जायेगी। और भगवान केदारनाथ की शीतकालीन पूजा उखीमठ में शुरू हो जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.