बागेश्वर जनपद के लोगों के लिए राहत भरी खबर, डायसिस सेंटर में मिलने लगी डायलिसिस की सुविधा।

NEWS 13 प्रतिनिधि बागेश्वर:-

बागेश्वर/ जिले के लोगों के लिए राहत भरी खबर है जिला अस्पताल के डायसिस सेंटर में लोगों को डायलिसिस की सुविधा मिलने लगी है अब डायलिसिस के लिए लोगों को बागेश्वर से बाहर अन्य जनपदों का रुख नहीं करना पड़ेगा। लंबे इंतजार के बाद बागेश्वर जिले के लोगों को डायलिसिस की सुविधा मिल गई है जिला अस्पताल के डायसिस सेंटर में लोगों को डायलिसिस की सुविधा मिलने लगी है 12 मार्च से अब तक 19 लोगों का डायलिसिस भी हो चुका है। डायलिसिस सेंटर का संचालन हंस फाउंडेशन कर रहा है। इसके लिए सरकार का फाउंडेशन के साथ करार हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉 : बागेश्वर के कांडा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव के बाद नवजात को मारा थप्पड़, नवजात शिशु की हुई मौत, आयोग ने सीएमओ को भेजा नोटिस, कहा तथ्यों के साथ हाजिर हों।

जिला अस्पताल के सीएमएस वीके टम्टा ने बताया कि अब तक सेंटर में 19 लोगों का डायलिसिस हो चुका है। डायलिसिस की सुविधा न होने के कारण किडनी की बीमारी से जूझ रहे लोगों को हल्द्वानी और दिल्ली जाना पड़ता था। इसमें धन और समय दोनों की बर्बादी होती थी। जिले के लोग लंबे समय से डायलिसिस की सुविधा दिलाने की मांग कर रहे थे अब लोगों की मुराद पूरी हो गई है। डायलिसिस रक्त शोधन की एक कृत्रिम विधि होती है डायलिसिस की जरूरत तब पड़ती है जब किसी व्यक्ति के वृक्क (किडनी) यानी गुर्दे सही से काम नहीं कर रहे होते हैं गुर्दे से जुड़ी बीमारी लंबे समय से मधुमेह के मरीज, उच्च रक्तचाप जैसी स्थिति में पड़ती है। डायलसिस में शरीर में एकत्रित अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकला जाता हैं स्थायी और अस्थायी होती हैं आमतौर पर जब दोनों किडनियां काम नहीं कर रही हों तो उस स्थिति में किडनी रोग विशेषज्ञ डायलिसिस करवाने की सलाह देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.