भैसियाछाना ब्लाक में बोलेरो समाई गहरी खाई में एक की मौत 11 घायल।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि अल्मोड़ा:-

अल्मोड़ा/ जनपद के भैंसियाछाना ब्लॉक से एक सड़क हादसे की खबर आई है। यहां एक बोलेरो वाहन के दुर्घटना ग्रस्त होने से एक शख्स की मौत हो गई और 11 लोग घायल हो गए। एक घायल की हालत गंभीर बनी हुई है।

यह भी पढ़ें 👉 : देवर ने भाभी पर फैंका तेजाब अस्पताल में भर्ती।

यह हादसा दिवाली के दिन हुआ। बाड़ेछीना से एक बोलेरो गाड़ी सवारियों को लेकर अलई गांव जा रही थी। इसी बीच बोलेरो अनियंत्रित होकर गहरी खाई में जा समाई। हादसे के समय बोलेरो में 12 लोग सवार थे। ये सभी लोग दिवाली का सामान खरीदकर अपने घर लौट रहे थे। कि इसी बीच अलई के पास गाड़ी सड़क से लगभग पांच मीटर नीचे खाई में जा समाई। हादसे में दो लोगों को गंभीर।

यह भी पढ़ें 👉 : उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने लिखीं सभी दलों को चिट्ठी कहा आगामी विधानसभा चुनाव में महिलाओं को दे 40% की भागीदारी।

चोटें आई थी। क्षेत्र के ग्रामीण घायलों को अपनी गाड़ी से बाड़ेछीना अस्पताल ले गए। परन्तु यहां डॉक्टर नहीं मिला। बाद में ग्रामीण घायलों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पेटशाल लेकर गए। यहां से भी उन्हें हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉 : पिथौरागढ़ में हुआ दर्दनाक कार हादसा पति पत्नी के साथ ही 6 वर्षीय पुत्र की भी हुई मौके पर ही दर्दनाक मौत, दो अन्य गम्भीर रूप से घायल।

जिला अस्पताल में इलाज के दौरान घायल हरीश राम पुत्र जशोदा राम की मृत्यु हो गई। हरीश राम 40 वर्ष के थे। हादसे में रजुली देवी पत्नी ठाकुर राम भी गंभीर रूप से घायल है। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। वाहन में सवार अन्य लोगों को हल्की चोटें आई हैं। घायल रजुली देवी ने बताया कि गाड़ी गांव का ही युवक सुरेश चला रहा था। गाड़ी खाई में कैसे गिरी इसको कोई नहीं समझ पाया। प्राप्त जानकारी के अनुसार शुरुआती जांच में हादसे की वजह सड़क का धंसना बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉 : एवरेस्ट की चोटी फतह करने वाली पिथौरागढ़ की बेटी को 13 को सम्मानित करेंगे राष्ट्रपति।

जांच में ये भी पता चला है कि गाड़ी में मानक से अधिक सवारी बैठाई गई थी। त्योहारों के चलते पहाड़ी क्षेत्रों में गाड़ी वाले नियम कानूनों को धत्ता बताकर जमकर ओवरलोडिंग करतें है। जिसके चलते चकराता में भी पिछले दिनों भीषण हादसा हुआ था। जिसमें कई लोगों की जान चली गई थी। प्रशासन ओवरलोडिंग रोकने के तमाम दावे कर रहा है। लेकिन वाहन चालकों में प्रशासन की कार्रवाई का कोई डर नहीं नहीं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.