चम्पावत >> अब प्रभावित होगी जलापूर्ति, जल संस्थान संविदा कर्मी हड़ताल पर।

NEWS 13 प्रतिनिधि राहुल सिंह अधिकारी, चम्पावत:-

चम्पावत/ उत्तराखंड जल संस्थान संविदा और श्रमिक संघ के बैनर तले कुमाऊं के अलग-अलग डिविजनों में तैनात कर्मचारी गुरुवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। इनके अचानक हड़ताल में जाने से सीजनी त्योहार में जल उपभोक्ताओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। इधर चम्पावत के मैदानी क्षेत्र टनकपुर में भी इसका असर दिखाई देने लगा है। यहां भी पेयजल के संविदा कर्मी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गये हैं। संविदा कर्मचारी स्थायी नियुक्ति, समान कार्य-समान वेतन, साप्ताहिक अवकाश समेत अन्य मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। संगठन का दावा है कि हड़ताल में छह जिलों के 22 सौ से अधिक कर्मचारी शामिल हैं। जल संस्थान में वर्षों से संविदा और श्रमिक वर्ग में कार्यरत कर्मचारियों के आंदोलन से पेयजल आपूर्ति पर भी इसका असर दिखाई देने लगा है। इस दौरान पेयजल उपभोक्ताओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़े 👉 : विकास की बाट जोह रहा बाराकोट का पड़ासों सेरा गांव, सीएम के नाम पड़ासों सेरा के ग्रामीणों ने भेजा पत्र।

टनकपुर मेंं कांग्रेस ने दिया पूर्ण समर्थन:-

शुक्रवार को जल संस्थान में कार्यरत ठेकेदारी प्रथा में कार्य कर रहे कर्मचारियों के आंदोलन को पूर्व विधायक हेमेश खर्कवाल ने टनकपुर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ अपना पूर्ण समर्थन दिया। इस दौरान ठेकेदारी प्रथा में कार्य कर रहे कर्मचारियों को ठेकेदारी प्रथा से हटा कर संविदा कर्मचारी घोषित करने तथा 18 हजार रूपये प्रति माह न्यूनतम मानदेय करने की मांग की है। समर्थन कार्यक्रम में अनिल चौधरी पिंकी कांग्रेस नगर अध्यक्ष, नरेश सहकारी, नीरज मिश्रा यूथ कांग्रेस अध्यक्ष, ईशु अग्रवाल, भैरव दत्त जोशी आदि शामिल रहे।

यह भी पढ़े 👉 : रोसाल गांव शिशु मंदिर एवं भूमिया मंदिर परिसर में स्वच्छता अभियान के साथ की गयी रंगाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.