यशपाल आर्या को पदमुक्त करने की अधिसूचना हुई जारी।

NEWS 13 प्रतिनिधि देहरादून:-

देहरादून/ भाजपा के कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने अपने बेटे संजीव आर्य के साथ भाजपा को अलविदा कहकर कांग्रेस का दामन थामा है। तो इस परिस्थिति यशपाल आर्य के पास जो विभाग थे उनको कौन संभालेगा ये बड़ा सवाल था। आपको बता दें कि उनके विभाग खुद मुख्यमंत्री पुष्कर धामी संभालेंगे। यशपाल आर्य ने कांग्रेस में जाने से पहले ही मुख्यमंत्री को अपना इस्तीफा भेज दिया था। परन्तु सरकार ने उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया था। लेकिन अब मुख्य सचिव डॉ0एसएस संधू ने यशपाल आर्य को पद मुक्त करने की अधिसूचना जारी कर दी है। यशपाल आर्य के उत्तराखंड सरकार में परिवहन व समाज कल्याण एव अल्पसंख्यक कल्याण तथा छात्र कल्याण, निर्वाचन के साथ ही आबकारी मंत्रालय थे।

यह भी पढ़े 👉 : यहां नहर में मिला अल्मोड़ा निवासी बुजुर्ग का शव।

राज्यपाल ने मुख्यमंत्री की सलाह पर यह भी आदेश दिए कि आर्या को आवंटित विभाग मुख्यमंत्री के पास अतिरिक्त कार्य प्रभार के रूप में रहेंगे। कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्या व उनके विधायक बेटे संजीव आर्य के भाजपा छोड़ने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि शायद उनके व्यक्तिगत हित सामने आ गए होंगे। मुख्यमंत्री आवास स्थित जनता दर्शन हाल में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम से मीडिया कर्मियों ने यशपाल आर्या के पार्टी छोड़ने से जुड़ा प्रश्न पूछा।

यह भी पढ़े 👉 : यहां चलते आटो रिक्शा के आगे अचानक से आया गुलदार हादसे में गुलदार के साथ ही एक अन्य व्यक्ति की मौत।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमेशा हम लोगों ने सभी का मान सम्मान के साथ ही आदर किया है। हमने सबको अपना परिवार माना है। भारतीय जनता पार्टी में राष्ट्र प्रथम है। पार्टी द्वितीय है और व्यक्तिगत अंतिम का सिद्धांत है। किसी को हो सकूं है इसमें परेशानी होती होगी हो सकता है उनका कुछ निजी स्वार्थ रहा हो उनके व्यक्तिगत हित ज्यादा आगे आ जाते होंगे तो वह भाजपा में असहज हो जाते होंगे। मैं समझता हूं कि उनका व्यक्तिगत हित आगे आ गया होगा। अंत में उन्होंने शायराना अंदाज में दो पंक्तियां पढ़ीं। जाने वाले को कहां रोक सका है कोई, तुम चले हो तो रोकना वाला भी नहीं कोई।

यह भी पढ़े 👉 : यहां विवाहिता पर फैंका तेजाब दहेज के लिए ससुराल वाले कर रहे थे प्रताड़ित।

Leave a Reply

Your email address will not be published.