नवनियुक्त विधायक उमेश शर्मा पर लगा तथ्यों को छिपाने का आरोप, नैनीताल हाईकोर्ट पहुंचा मामला।

NEWS 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

नैनीताल/ खानपुर से नव नियुक्त विधानसभा सदस्य उमेश कुमार शर्मा को शपथ ग्रहण करने से रोकने व जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर उत्तराखंड उच्च न्यायालय नैनीताल में याचिका दायर की गयी है। आज होली के अवकाश के बाद भी मामले की सुनवाई कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश संजय कुमार मिश्रा और न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की युगलपीठ में हुई। पीठ ने याचिका की पोषणीयता पर सवाल उठाते हुए याचिकाकर्ताओं को इस मामले में 23 मार्च को सुनवाई के दौरान जवाब देने को कहा है।

यह भी पढ़ें 👉 : हल्द्वानी बीजेपी कार्यालय में होली का जश्न, प्रोटेम स्पीकर बंशीधर भगत खूब थिरके होली के गीतों पर।

हरिद्वार जिले के लक्सर डाबकी कलां गांव निवासी वीरेन्द्र कुमार और जनता कैबिनेट पार्टी की भावना पांडे की तरफ से चुनौती दी गयी है। दायर याचिका में कहा गया है कि उमेश शर्मा ने नामांकन पत्र में तथ्यों को छुपाया है। उमेश शर्मा ने शपथपत्र में आपराधिक मामलों का पूरा विवरण नहीं दिया है। याचिका में कहा गया है कि उनका आपराधिक इतिहास है। उनके खिलाफ अलग-अलग राज्यों में 30 मामले दर्ज हैं। याचिकाकर्ताओं की ओर से आगे कहा गया है कि शर्मा की ओर से विधानसभा में नामांकन के दौरान फार्म 26 में पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं करायी गयी है। तथ्यों को छिपाया गया है। याचिकाकर्ताओं की ओर से शर्मा को विधानसभा की शपथ लेने से रोकने की मांग की गयी है। इसके अलावा चुनाव आयोग से उनके खिलाफ जनप्रतिनिधित्व कानून के तहत कार्यवाही करने की भी मांग की गयी है।

यह भी पढ़ें 👉 : मातम में बदली होली, श्रीनगर में अलकनंदा में बहे दो लड़के।

पीठ ने याचिका की पोषणीयता पर सवाल उठाते हुए कहा मामले को चुनाव याचिका के तहत क्यों नहीं चुनौती दी गयी। पीठ ने याचिका की पोषणीयता पर प्रश्न उठाते हुए याचिकाकर्ताओं से पूछा कि जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 80 व संविधान की धारा 329 के तहत इस मामले को चुनाव याचिका के तहत क्यों नहीं चुनौती दी गयी। याचिकाकर्ताओं की ओर से इस मामले में जवाब देने के लिये 23 मार्च तक की मांग की गयी है। अब इस मामले को 23 मार्च को सुना जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.