बागेश्वर के कांडा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव के बाद नवजात को मारा थप्पड़, नवजात शिशु की हुई मौत, आयोग ने सीएमओ को भेजा नोटिस, कहा तथ्यों के साथ हाजिर हों।

NEWS 13 प्रतिनिधि बागेश्वर:-

बागेश्वर/ बागेश्वर जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कांडा में प्रसव के बाद नवजात शिशु की मौत हो गई। इस मामले में राज्य अनुसूचित जाति आयोग ने सख्ती दिखाते सीएमओ को नोटिस भेजा है। साथ ही आयोग ने सीएमओ को उनके समक्ष उपस्थित होने का निर्देश दिया है।

यह भी पढ़ें 👉 : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को झारखंड उच्च न्यायालय ने भेजा नोटिस।

स्वास्थ्य विभाग पर आरोप है कि चिकित्सालय के इमरजेंसी में कोई चिकित्सक नहीं था। और प्रसव के बाद नवजात को थप्पड़ मारा गया है जिसके कारण नवजात की मौत हो गई। कांडा के कांडे कन्याल निवासी ललित प्रसाद का आरोप है कि बीते 21 फरवरी को उसकी पत्नी को प्रसव पीड़ा हुई। उन्होंने 108 पर फोन किया और सेवा नहीं मिली इसके बाद वो पत्नी को कांडा चिकित्सालय ले गए। जहां डॉक्टर और अन्य कर्मचारी ड्यूटी से नदारद थे। उन्होंने अस्पताल में लगे बोर्ड पर लिखे नंबरों पर फोन किया तो आधे घंटे बाद वहां स्वास्थ्य कर्मी पहुंचे।

यह भी पढ़ें 👉 : महानायक अमिताभ बच्चन पहुंचे देहरादून एयरपोर्ट के बाहर, महानायक की एक झलक पाने के लिए उमड़ा भारी हूजूम।

उनका आरोप है कि स्वास्थ्य कर्मियों ने बेरहमी से उनकी पत्नी का प्रसव कराया। और वहां तैनात नर्स ने शिशु को थप्पड़ मारा जिससे उसकी मौत हो गई। इस पर ललित प्रसाद ने 24 फरवरी को इसकी शिकायत अनुसूचित जाति आयोग और कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत समेत संबंधित अधिकारियों से की। शिकायत पर अनुसूचित जाति आयोग के सचिव विपिन चंद्र रतूड़ी ने इसे गंभीरता से लेते हुए सीएमओ को नोटिस भेजा और कहा है कि वे सभी तथ्य के साथ आयोग के समक्ष उपस्थित हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published.