बागेश्वर जिले के दुरस्त गांव के नीरज का हुआ अंडर 25 क्रिकेट टीम में चयन।

NEWS 13 प्रतिनिधि बागेश्वर:-

बागेश्वर/ भले ही उतराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में अच्छे क्रिकेट स्टेडियम न हो बावजूद इसके पहाड़ के युवा क्रिकेट में अपना नाम कमा रहे हैं। राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय और प्रादेशिक क्रिकेट में उत्तराखंड के पर्वतीय मूल के दर्जनों स्टार क्रिकेटर आज करोड़ों दिलों में राज कर रहे हैं। अब एक और खबर आई है कि बागेश्वर के महोली निवासी नीरज राठौर का सिलेक्शन प्रदेश की अंडर 25 क्रिकेट टीम में हुआ है। बतौर ओपनर बल्लेबाजी करने वाले नीरज राष्ट्रीय स्तर की कर्नल सीके नायडू प्रतियोगिता में प्रदेश की टीम का हिस्सा रहेंगे। उनके चयन की खबर मिलते ही उनके गृह क्षेत्र में खुशी का माहौल है।

यह भी पढ़ें 👉 : होली के जश्न के बीच कपकोट के थाना गांव में छाया मातम, कंरट लगने से 44 वर्षीय व्यक्ति की मौत।

नीरज के पिता गंगा सिंह सेना में सूबेदार के पद पर तैनात है जो वर्तमान में जम्मू में पोस्टेड हैं और माता पार्वती देवी अपनी दो बेटियों के साथ लखनऊ में रहती है जबकि नीरज देहरादून में रहकर क्रिकेट खेलते हैं नीरज ने इस साल कई बेहतरीन पारियां खेलकर चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया पिछले साल उन्होंने T20 मैच में 26 गेंदों में शतक लगाकर अपनी बल्लेबाजी का लोहा मनवाया था जिसके बाद वे चर्चा में आए थे यही वजह है कि अब वह उत्तराखंड की टीम में खेलेंगे। नीरज ने शूरुआती पढ़ाई अपने गांव के प्राथमिक विद्यालय से की।

यह भी पढ़ें 👉 : भगत को आए दिल्ली से बुलावे के बाद मुख्यमंत्री पद को लेकर फिर हुआ चर्चाओं का बाजार गर्म।

जिसके बाद वे अपने पिता के साथ पठानकोट चले गए। वहा उन्होंने हाई स्कूल तक पढ़ाई की इस बीच उनका परिवार लखनऊ आकर बस गया और पढ़ाई के बीच उन्की क्रिकेट के दिलचस्पी जागी। और वे क्रिकेट की प्रैक्टिस के लिए दिल्ली चले गए। कुछ साल तक दिल्ली में खेलने के बाद फिर वे देहरादून आए और देहरादून में क्रिकेट कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए उन्होंने एकेडमी खोलकर युवाओं को भी क्रिकेट के गुर सिखाना शुरू किया। बागेश्वर से ही मनीष पांडे और कमलेश नगरकोटी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना चुके हैं और देश के लिए खेल चुके हैं नीरज का भी सपना इन्हीं की तरह एक दिन देश के लिए क्रिकेट खेल कर अपने जिले और राज्य का नाम रोशन करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.