भाई सूचना विभाग में क्लर्क बीबी प्रशासनिक अधिकारी खुद भी कार्यरत हैं पीडब्ल्यूडी में, लेकिन धंधा नौकरी लगाने के नाम पर करोड़ों की ठगी का।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि देहरादून:-

देहरादून/ राज्य में लगातार साइबर ठगों के साथ नौकरी लगाने के नाम पर ठगी करने के मामले भी बढ़ते ही जा रहे हैं। इससे ये पता भी चलता है कि राज्य में किस कदर बेरोजगारी है। और युवाओं में नौकरी के लिए कितनी मारा मारी मची है। देहरादून की पटेलनगर पुलिस ने नौकरी के नाम पर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है जो खुद सरकारी कर्मचारी है।

यह भी पढ़ें 👉 : यहां पुलिस ने 9 जुआरियों को 9 लाख 91 हजार 6 सौ रुपए नगद व 9 मोबाइल फोन के साथ किया गिरफतार।

गिरोह का मुख्य आरोपी गिरफ्तार:-

प्राप्त जानकारी के अनुसार रात के विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी लगाने के नाम पर धोखाधड़ी कर लोगों से करोड़ों रुपए हड़पने वाले गिरोह के एक सदस्य को पटेल नगर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी गिरोह का मुख्य सदस्य बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉 : सुबह-सुबह यूटिलिटी वाहन समाया गहरी खाई में 11 लोगों की मौत, 4 गम्भीर रूप से घायल।

खुद को बताते थे बड़े अधिकारी:-

प्राप्त जानकारी के मुताबिक गिरोह के सदस्य द्वारा अलग-अलग व्यक्तियों से धोखाधड़ी कर बहुत बड़े स्तर पर लोगों से करोड़ों रुपए लिए गए हैं। और इस गिरोह के सदस्य खुद को सचिवालय से बड़ा अधिकारी बताकर लोगों के साथ धोखाधड़ी करते थे। आरोपी अभ्यार्थियों का सचिवालय और विधानसभा के खाली पड़ी केविन में साक्षात्कार लेते थे। आरोपी का भाई सूचना विभाग में हेड क्लर्क के पद पर तैनात है और पत्नी पीडब्ल्यूडी विभाग में प्रशासनिक अधिकारी के पद पर नियुक्त है।

यह भी पढ़ें 👉 : कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन को उतारा गया मंच से नीचे, गुस्से से लाल चैंपियन सीधे निकल लिए घर को।

गिरफ्तार आरोपी खुद भी पीडब्ल्यूडी विभाग में कार्यरत:-

गिरफ्तार आरोपी खुद पीडब्ल्यूडी विभाग में कार्यरत है जो सचिवालय और विधानसभा के खाली पड़े केबिन में अभ्यार्थियों का साक्षात्कार लेता था और रुपये ठगने का काम करते था।

यह भी पढ़ें 👉 : कानून को ठेंगे पर रखकर हथियार बंद बदमाशों ने रिजॉर्ट पर किया कब्जा।

साथ ही इस गिरोह के आरोपी आवेदकों को फर्जी नियुक्ति पत्र भी देते थे जिससे वो इनके झासे में आसानी से आ जाते थे। खुद को अधिकारी बताकर इस गिरोह के सदस्य अब तक करोड़ों रुपये की ठगी कर चुके थे। परन्तु इनका ये खेल ज्यादा लम्बा नहीं चल पाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.