राज्य में 2022 के विधानसभा चुनाव में 50 प्रतिशत बूथ सीसीटीवी कैमरे के जरिए सीधे होंगे चुनाव आयोग की निगरानी में।

NEWS 13 प्रतिनिधि देहरादून:-

देहरादून/ चुनाव आयोग 2022 के विधानसभा चुनावों में बूथों पर कैमरों के जरिए सीधी नजर रखेगा। राज्य के ऐसे लगभग 50 प्रतिशत से अधिक बूथ होंगे जिन पर चुनाव आयोग की सीधी नजर रहेगी। इन पर बकास्टिंग के जरिये नजर रखी जाएगी। बूथों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने की तैयारी चल रही है। राज्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय तैयारियों में जुट गया है। इस बार चुनाव में नई एम थ्री इवीएम मशीन उपयोग में लाई जाएंगी। इसके लिए 18400 नई इवीएम और वीवी पैट मशीनें आ चुकी हैं। इन मशीनों पर इन दिनों मतदाताओं को वोट डालने की जानकारी दी जा रही है। इसके साथ ही इनके संचालन की जानकारी निर्वाचन अधिकारियों को देने के लिए मास्टर ट्रेनर भी प्रशिक्षित किए जा रहे हैं। राज्य में इस बार आयोग ने बूथों की संख्या को भी बढ़ाया है। कोरोना की गाइडलाइन का अनुपालन करने के लिए इस बार एक बूथ पर अधिकतम 1200 मतदाताओं से ही मतदान कराया जाएगा। कई बूथ ऐसे हैं जहां 1200 से अधिक मतदाता हैं। इस कारण प्रदेश में बूथों की संख्यां को बढ़ावा गया है।

यह भी पढ़ें 👉 : बद्री-केदार की व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी एक बार फिर बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के हाथों में।

विधानसभा चुनावों में बूथों की संख्या 1024 थी। अब एक बूथ पर मतदाताओं की अधिकतम संख्या तय करने के बाद 623 नए बूथ बनाए गए हैं। ऐसे में बूथों की कुल संख्या 11647 हो गई है। चुनावों को पारदर्शी तरीके से संपन्न कराने के लिए आयोग ने इस बार मतदान की प्रक्रिया पर भी नजर रखने का फैसला लिया है। आयोग ने बीते चुनावों में शुरू की गई वेबकास्टिंग की सफलता को देखते हुए इस बार 50 प्रतिशत बूथों को इसके दायरे में लाने का फैसला लिया है। आयोग मतदान के दिन बूथों पर होने वाली गतिविधियों पर सीधे नजर रख सकेगा। हर दूसरा बूथ आयोग की निगरानी में होगा। इसके लिए इन दिनों सीसी कैमरों की खरीद की जा रही है। चुनाव नजदीक आते ही इन्हें लगाने का काम भी शुरू कर दिया जाएगा। सहायक निर्वाचन अधिकारी मस्तूदास ने बताया कि इस बार सभी अति संवेदनशील व संवदेनशील के साथ ही सुदूरवर्ती क्षेत्रों के सभी बूथों को वेबकास्टिंग के दायरे में लाया जाएगा। इसके अलावा शेष बूथों पर भी इन्हें लगाया जाएगा। प्रयास यह रहेगा कि हर मतदान केंद्र में कम से कम एक बूथ से वेबकास्टिंग की जा सके।

यह भी पढ़ें 👉 : मौसम विभाग ने दी उतराखंड में अगले चार दिनों तक शीत लहर की चेतावनी, जारी किया यलो अलर्ट।

Leave a Reply

Your email address will not be published.