ज्योलिकोट के नजदीक मटियाली गांव में ढाई वर्षीय बच्चे को अपना निवाला बनाने वाला गुलदार फंसा पिंजरे में।

NEWS 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

नैनीताल/ ज्योलिकोट के समीप मटियाली गांव में ढाई वर्षीय बच्चे को मौत के घाट उतारने वाला गुलदार पिंजरे में कैद हो गया है। अब वन विभाग की टीम गुलदार को रानीबाग के रैस्क्यू सेंटर में लेकर जाने की तैयारी कर रही है। कल देर रात नैनीताल जिले में ज्यूलिकोट के मटियाली गांव से ढाई वर्षीय बच्चा आंगन से गायब हो गया था। लेकिन शंका व्यक्त गई थी की बच्चे को गुलदार उठाकर ले गया होगा सूचना के बाद बड़ी संख्या में लोगों ने आसपास के क्षेत्र में खोजबीन की लेकिन अंधेरे के चलते कुछ अता पता नहीं चल सका। प्राप्त जानकारी के मुताबिक नैपाल निवासी भानु राणा और उनकी पत्नी मीना राणा अपने दो बेटों 4 वर्षीय पीयूष और ढाई वर्षीय राघव के साथ गांव में रहते हैं।

यह भी पढ़े 👉 : कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के ढेला रेंज में बाघ का कंकाल मिलने से मंचा हड़कंप।

देर शाम राघव कमरे से निकलकर घर के आंगन में आया और अचानक ही लापता हो गया। तब अंदाज लगाया गया कि घात लगाकर बैठा गुलदार ने बच्चे को उठा लिया। और बच्चे को अपना निवाला बनाकर गुलदार जंगल में गायब हो गया। बच्चे के बाहर जाने की जानकारी होने पर मां उसे लेने के लिये बाहर आयी तो बच्चा नहीं मिला। ग्रामीणों ने बताया कि शाम को कुछ लोगों ने उस क्षेत्र में गुलदार को देखा था। घटना की जानकारी मिलने के बाद से ही राघव की तलाश शुरू हो गई। शुक्रवार रात से शनिवार सवेरे तलाश के दौरान राघव का श्रत विक्षत शव घर से लगभग डेढ़ किलोमीटर दूर बरामद हुआं था। दोपहर में वन विभाग ने जंगल के उस हिस्से में पिंजरा लगा दिया जिसमें रात होते होते एक गुलदार फंस गया। विभाग के आर0ओ भोपाल सिंह मेहता ने बताया कि गुलदार को परीक्षण के लिए रानीबाग रैस्क्यू सेंटर ले जाया जाएगा।

यह भी पढ़े 👉 : कोरोना ने उत्तराखंड के विद्यालयों में फिर दी दस्तक नैनीताल के रातीघाट में चार तो चमोली के गोपेश्वर में एक बच्चा निकला कोरोना पॉज़िटिव।

Leave a Reply

Your email address will not be published.