पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के आगे फफक-फफक कर रो पड़ी आपदा पीड़ित महिला पूर्व सीएम ने तुरंत डीएम को फोन कर जल्द राहत देने की कहीं बात।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

लालकुआं/ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पिछले महीने बरसात से ऊफनाई गौलानदी से प्रभावित हुए लालकुआं विधानसभा क्षेत्र के बिन्दूखत्ता स्थित इंदिरा नगर द्वितीय गबदा क्षेत्र का आज़ दौरा किया। इस भ्रमण के दौरान हरीश रावत ने भाजपा सरकार को आड़े हाथों लिया।

यह भी पढ़ें 👉 : राज्य आंदोलनकारी नंदन की संघर्ष की कहानी, आपके आंखों से भी आ जाएगा पानी।

उन्होंने कहा कि आपदा के समय राज्य सरकार पूरी तरह विफल रही है। जिस समय प्रदेश में आपदा आई थी। उस समय सरकार के मंत्री हेलीकॉप्टर से हवाई सर्वे करने का इंतजार कर रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉 :  मित्र पुलिस की ये कैसी मित्रता 8 दिन तक कोतवाली और चौकी के चक्कर काटता रहा युवक थक हार कर पहुंचा एसएसपी के पास।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को इतने दिनों बाद भी मदद नहीं मिली है। इसी बीच एक महिला पूर्व सीएम हरीश रावत के सामने फफक-फफक कर रोने लगी जिस पर हरीश रावत ने तुरंत नैनीताल डीएम को फोन लगाया और लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए कहा। यहां अभी तक पीड़ितों कि कोई मदद नहीं की गई जो बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

यह भी पढ़ें 👉 : राज्य स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री ने खोला घोषणाओं का पिटारा।

उन्होंने कहा कि सरकार को राज्य के सभी प्रभावित क्षेत्रों को आपदाग्रस्त क्षेत्र घोषित करना चाहिए। लेकिन सरकार का इस ओर ध्यान नहीं है। हरीश रावत ने कहा कि अगर राज्य सरकार जल्द ही आपदा प्रभावित लोगों को मदद नहीं देती है तो कांग्रेस राज्य भर में उग्र प्रदर्शन करेगी।

यह भी पढ़ें 👉 न: रानीखेत से दिल्ली के लिए 46 यात्रियों को लेकर चली रोड़वेज बस हुई पातली में खड़ी खस्ताहाल रोडवेज का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है यात्रियों को।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार को उत्तराखंड के आपदाग्रस्त क्षेत्रों के लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए थी। परन्तु अब तक डबल इंजन सरकार इस सवाल पर चुप्पी साधे है। 36 घंटे पहले अलर्ट जारी होने के बावजूद भी सरकार ने नदियों के किनारे व असुरक्षित क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए किसी तरह की व्यवस्था नहीं की।

यह भी पढ़ें 👉 : लालकुआं से काठगोदाम तक राष्ट्रीय राजमार्ग की दुर्दशा को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सड़क पर मौन उपवास रखकर किया धरना-प्रदर्शन।

हरीश रावत ने आरोप लगाया कि सरकार ने ऐसे लोगों को कोई चेतावनी भी नहीं दी। केंद्र और राज्य सरकारों ने सिर्फ हवा-हवाई दौरा किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अब तक सरकार द्वारा आपदा प्रभावितों को किसी प्रकार की आर्थिक मदद नहीं मिली है। इस दौरान उन्होंने जिला अधिकारी नैनीताल से फोन पर वार्ता कर पिड़ितों को जल्द मदद दिलाने कि बात की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.