बागेश्वर में 15 साल से लगातार विधायक चंन्दन रामदास, मजकोट गांव में 15 साल विधायक रह कर भी नहीं पहुंचा पाए रोड, अब ग्रामीणों ने किया चुनाव बहिष्कार का ऐलान।

NEWS 13 प्रतिनिधि बागेश्वर:-

बागेश्वर/ जिले के विकासखंड गरूड़ के मजकोट के ग्रामीणों को अनुनय-विनय के बाद भी गांव तक एक अदद सड़क नहीं मिल पाई है। इसके अलावा भी ग्रामीणों की कई अन्य मांगें लंबित हैं। ग्रामीणों के द्वारा इन मांगों को लेकर तहसील पर आंदोलन चलाया जा रहा है। अब अनसुनी से नाखुश ग्रामीणों ने दो टूक चेतावनी दी है कि यदि उन्हें गांव तक यातायात सुविधा नहीं मिली तो वे चुनाव बहिष्कार करेंगे। आंदोलित ग्रामीणों ने कहा है कि सांसद आदर्श गांव में यातायात की सुविधा तक नहीं है। ग्रामीणों का तहसील मुख्यालय में चलाया जा रहा धरना जारी रहा।

यह भी पढ़ें 👉 : क्या उत्तराखंड की राजनीति में आने वाला है राजनीतिक भूकंप, हरीश रावत 5 जनवरी को राजनीति से संन्यास लेने की कर सकते हैं घोषणा।

मजकोट के ग्रामीणों का गरुड़ तहसील में चलाया जा रहा धरना आज बुधवार को भी जारी रहा। इस दौरान ग्रामीणों ने कहा कि मजकोट गांव सांसद आदर्श गांव है। परंतु यहां पर अब तक यातायात की सुविधा तक नहीं है। कहा कि गांव में स्वास्थ्य, शिक्षा की भी समस्या बनी हुई वक्ताओं ने कहा कि विभाग व ठेकेदार की कानूनी लड़ाई के चलते ग्रामीणों को यातायात सुविधा नहीं मिल पा रही है। उन्होंने कहा कि यदि शीघ्र गांव तक मोटर मार्ग का निर्माण प्रारंभ नहीं किया तो ग्रामीण आगामी विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करेंगे। इससे पहले वह कई बार प्रशासन और विभाग से रोड़ बनाने की मांग कर चुके हैं, लेकिन आज तक कोई सुनवाई नहीं हो पाई है। अब आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। इस दौरान ग्रामीण आनंद पुरी, मान गिरी, पूरन गिरी, कैलाश गिरी, लक्ष्मण गिरी, वीरेंद्र गिरी, मोहन गिरी समेत सैकड़ों ग्रामीण ने अपनी मोजुदगी दर्ज कराई।

यह भी पढ़ें 👉 : बागेश्वर >> नगर गैस वितरण प्रणाली निकम्मी, विधायक का कहना है खबर छपने से नहीं मिलती गैस, उग्र आन्दोलन करने की धमकी देने वाली महिलाओं के पास जल्द वोट देने का मौका, बार-बार मौका देने से भी विधायक करते हैं नजरअंदाज।

Leave a Reply

Your email address will not be published.