इसरो से पीएचडी कर रही रानीखेत की हिमानी जोशी ने मास्टर ऑफ जियोलॉजी की परीक्षा में जीता गोल्ड।

NEWS 13 प्रतिनिधि अल्मोड़ा:-

अल्मोड़ा/ उतराखंड के युवा कोई देश में रहकर तो कोई देश से बाहर जाकर दुनिया के कोने कोने में देवभूमि का नाम रौशन कर रहे है। एक ऐसी ही गर्व की अनुभूति करातीं खबर सामने आई है रानीखेत के ताड़ीखेत विकासखंड के एक छोटे से गांव की बेटी हिमानी जोशी ने मास्टर ऑफ साइंस जियोलॉजी परीक्षा-2020 के लिए गोल्ड मेडल जीत लिया है। पहाड़ की बेटियां पढ़ाई के क्षेत्र में नित नए मुकाम हासिल कर रही हैं। ताड़ीखेत के खग्यार गांव की हिमानी जोशी ने हर उतराखडी को गौरवान्वित होने का मौका दिया है। दरअसल हिमानी ने वनस्थली विद्यापीठ राजस्थान की ओर से मास्टर ऑफ साइंस जियोलॉजी परीक्षा-2020 की मेरिट में प्रथम स्थान हासिल किया है। जिसके लिए उन्हें स्वर्ण पदक से नवाजा जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉 : हल्द्वानी में कांग्रेसीयो ने क्यों फूंका मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का पुतला जानिए वज़ह।

कुलपति ने उन्हें सम्मान के तौर पर प्रशस्तिपत्र व पदक प्रदान किया है। हिमानी वर्तमान में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) से पीएचडी कर रही हैं। जो कि अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है। हिमानी जोशी हिमालयन पर्यावरण अध्ययन एवं संरक्षण संगठन से पद्मभूषण अनिल प्रकाश जोशी की अगुआई में पर्यावरण के लिए अच्छे काम कर चुके दधीचि अवार्डी प्रकाश जोशी की बेटी हैं। जानकारी के अनुसार हिमानी ने पं0गोविंद बल्लभ जोशी जूनियर हाईस्कूल जैनोली से आठवीं तथा 10वीं तक की पढ़ाई आर्मी स्कूल जबकि वियरशिबा स्कूल से 12वीं की पढ़ाई पूरी की। हिमानी हमेशा से पढ़ाई में अब्बल रही हैं। उन्होंने पहले वनस्थली विवि राजस्थान से उच्च शिक्षा पूरी की थी। उसके बाद ही इसरो से पीएचडी का सफर शुरू किया। बेटी की इस उपलब्धि पर घर परिवार में हर कोई खुश है। हिमानी ने अपनी सफलता का श्रेय दधीचि अवार्डी पिता प्रकाश व माता दीपा जोशी एवं अन्य गुरुजनों को दिया। पद्मभूषण अनिल प्रकाश जोशी ने भी बेटी को शुभकामनाएं दी हैं। हिमानी के गृह क्षेत्र में इस सफलता का महत्व देखते ही बनता है।

यह भी पढ़ें 👉 : राज्य स्थपना दिवस पर गैरसैंण मे गरजा उक्रांद, सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच बढ़ती बेरोजगारी व स्थाई राजथानी घोषित न होने का छलका दर्द।

Leave a Reply

Your email address will not be published.