यहां अध्यापकों पर लगा छात्र को बेरहमी से पीटने का आरोप अभिभावकों ने सीईओं को लिखा पत्र।

NEWS 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

नैनीताल/ यहां टीचर के द्वारा छात्र को बेरहमी से पीटने का मामला सामने आ रहा है। मामला भीमताल का है। ओखलकांडा के एक स्कूल में परिजनों ने सरकारी स्कूल के दो अध्यापकों पर उनके बेटे को बेरहमी से पीटने का आरोप लगाया है। परिजनों ने मुख्य शिक्षाधिकारी को पत्र लिखकर कार्रवाई करने की मांग की है। और अध्यापकों ने छात्र के पिता के द्वारा लगाए आरोपों को निराधार बताते हुए पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग उठाई है। अभिभावक की ओर से सीईओ को भेजे पत्र कहा गया है कि उनका बेटा आठवीं कक्षा में पढ़ता। किसी गलती पर विद्यालय के दो शिक्षकों ने उनके बेटे को बेरहमी से पीट दिया।

यह भी पढ़े 👉 : कोरोना ने उत्तराखंड के विद्यालयों में फिर दी दस्तक नैनीताल के रातीघाट में चार तो चमोली के गोपेश्वर में एक बच्चा निकला कोरोना पॉज़िटिव।

अध्यापकों पर आरोप है कि बेटे को 40 डंडे मारे गए। बेटे की जांघ और शरीर पर डंडों के निशान हैं। पिता का कहना है कि जब तक आरोपी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती तब तक वे अपने बेटे को स्कूल नहीं भेजेंगे। वहीं विद्यालय के प्रभारी प्रधानाचार्य का कहना है कि यह घटना गुरुवार की है। स्कूल की छात्राओं ने उक्त छात्र के खिलाफ छेड़छाड़ करने व परेशान करने का लिखित पत्र दिया था। इस शिकायत पर अध्यापकों द्वारा छात्र को बुलाया गया और अनुशासनहीनता करने के लिए उसे डांट फटकार लगाई गई। जिससे बाद छात्र अपने पिता के साथ स्कूल पहुंचा तो उसके पिता को भी पूरी वस्तु स्थिति की जानकारी दी गई। प्रधानाचार्य ने आरोप लगाया है कि इस बीच छात्र के पिता ने शिक्षकों के साथ अभद्रता की। और छात्र के साथ मारपीट की बात गलत है। इधर बीईओ राजवीर सिंह का कहना है कि अभी तक उन्हें कोई पत्र नहीं मिला है और न ही कोई इस प्रकार की सूचना प्राप्त हुई है। पत्र मिलने पर जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े 👉 : यहां आवासीय भवन में लगी भीषण आग।

Leave a Reply

Your email address will not be published.