हरीश रावत के अंदर राज्य को लेकर है पीड़ा अगर वो दुसरे दल में जातें हैं तो हम सब जाएंगे साथ-गोविंद सिंह कुंजवाल।

NEWS 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

हल्द्वानी/ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अपनी ही पार्टी से नाखुश हैं। ये नाराजगी हरीश रावत सोशल मीडिया पर जता चुके हैं। हरीश रावत के ट्वीट से सोशल मीडिया समेत अन्य दलों में सनसनी फैल गई है। अब इसी के साथ कांग्रेस में घमासान मच गया है। उतराखंड कांग्रेस में एक बार फिर से अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई है जिससे उतराखंड से दिल्ली तक हड़कंप मच गया है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि उतराखंड कांग्रेस के दिग्गज नेता दिल्ली तलब किए गए हैं। हरीश रावत के सपोर्ट में सुरेंद्र अग्रवाल तो हैं हीं साथ ही राज्यसभा सदस्य प्रदीप टम्टा व जागेश्वर विधायक और पूर्व विस अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल के साथ ही धारचूला विधायक हरीश धामी खुलकर पूर्व सीएम के पक्ष में खुलकर मैदान में आ गए हैं।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं से लेकर आमजनमास की पसंद भी हरीश रावत ही बने हुए हैं:-

यह भी पढ़ें 👉 : कपकोट >> विधायक बलवंत सिंह भौर्याल ने शामा उपतहसील का किया शुभारंभ, शामा क्षेत्र के लोगों को अब राजस्व विभाग से संबंधित कामों के लिए नहीं काटने पड़ेंगे कपकोट के चक्कर।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं से लेकर आम लोगों की पसंद भी राज्य में हरीश रावत है। लिहाजा केंद्रीय नेतृत्व को उन्हें मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करना चाहिए। गोविंद सिंह कुंजवाल ने तो स्पष्ट कह दिया कि जहां हरीश रावत जाएंगे वहां हम सब जाएंगे। वहीं दूसरी ओर विधायक धामी बोले कि अगर हरदा को सीएम नहीं बनाया तो अलग लाइन में खड़े होने वालों में वह सबसे आगे होंगे। जनता के साथ ही तमाम सर्वे भी आ चुके हैं कि हरीश रावत से बड़ा नेता उत्तराखंड में कोई नहीं-कुंजवाल।

यह भी पढ़ें 👉 : देहरादून में मिला ओमिक्रॉन का पहला मामला, शासन प्रशासन में मचा हड़कंप।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व विधायक जागेश्वर गोविंद सिंह कुंजवाल ने कहा कि चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष होने की वजह से पार्टी के सभी कार्यक्रम हरीश रावत के नेतृत्व और मार्गदर्शन में होने चाहिए थे। लेकिन कुछ लोगों ने अलग रैली और कार्यक्रम शुरू किए तो विवाद खड़ा होना स्वाभाविक है। मेरा मानना है कि जो लोग कांग्रेस को सत्ता में नहीं देखना चाहते हैं। यह कारनामे उनके हैं। जनता और तमाम सर्वे कह चुके हैं कि हरीश रावत से बड़ा नेता उत्तराखंड में कोई नहीं है। हरीश रावत के भीतर प्रदेश को लेकर पीड़ा है। अगर वह दूसरे दल में जाते हैं तो हम सब साथ जाएंगे।

यह भी पढ़ें 👉 : पिथौरागढ़ >> पहाड़ी से गिरे पत्थर की चपेट में आने से 36 वर्षीय जुम्मा निवासी की हुई मौत।

Leave a Reply

Your email address will not be published.