उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने लिखीं सभी दलों को चिट्ठी कहा आगामी विधानसभा चुनाव में महिलाओं को दे 40% की भागीदारी।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि देहरादून:-

देहरादून/ उतराखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने आने वाले विधानसभा चुनाव में सभी राजनैतिक दलों से 40 प्रतिशत महिला उम्मीदवारों को टिकट देने का आग्रह किया है।

यह भी पढ़ें 👉 : गौरीकुंड केदारनाथ यात्रा का मुख्य पड़ाव लेकिन केदारनाथ बाबा की चल विग्रह डोली के गौरीकुंड आने से पहले ही मां गौरामाई अपने शीतकालीन प्रवास के लिए गौरी गांव चली जाती है, जानिए क्या है मान्यता।

पूर्व विधायक व वनाधिकार आंदोलन के संस्थापक-प्रणेता किशोर उपाध्याय ने कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव व हरीश रावत एवं गणेश गोदियाल, प्रीतम सिंह के साथ ही नव प्रभात व प्रदेश के सभी विपक्षी दलों के अध्यक्षों को पत्र लिखकर उत्तराखंडियों को वनों पर उनके हक़-हक़ूक़ दिलवाने हेतु आग्रह किया है।

यह भी पढ़ें 👉 : पिथौरागढ़ में हुआ दर्दनाक कार हादसा पति पत्नी के साथ ही 6 वर्षीय पुत्र की भी हुई मौके पर ही दर्दनाक मौत, दो अन्य गम्भीर रूप से घायल।

यादव को भेजे पत्र में उपाध्याय ने लिखा है कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महामंत्री प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश में स्थानीय समुदायों को वनों व जल सम्पदा पर उनके हक़ूक़ देने का वायदा किया है। साथ ही साल में तीन रसोई गैस सिलेण्डर मुफ़्त देने का संकल्प किया है।

यह भी पढ़ें 👉 : एवरेस्ट की चोटी फतह करने वाली पिथौरागढ़ की बेटी को 13 को सम्मानित करेंगे राष्ट्रपति।

उपाध्याय ने यादव से कहा है कि जैसे प्रियंका गांधी ने आगामी विधान सभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकिट महिला शक्ति को देने का संकल्प लिया है। नारी विमर्श के उद्गम उत्तराखंड में भी आने वाले विधान सभा चुनाव में कांग्रेस व अन्य दल 40 प्रतिशत महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारें।

यह भी पढ़ें 👉 : यहां खौलते पानी की बाल्टी में गिरने से मासूम बच्चे की हुई दर्दनाक मौत।

उपाध्याय ने आशा जताई है कि सभी राजनैतिक दल उनके इस सुझाव को स्वीकार करेंगे। उपाध्याय ने कहा कि वे लम्बे समय से उत्तराखंडियों को वनों पर उनके पुश्तैनी अधिकार व हक़-हक़ुक़ दिलवाने हेतु संघर्षरत हैं। जिसमें वे परिवार के एक सदस्य को योग्यतानुसार पक्की सरकारी नौकरी, व केंद्र सरकार की सेवाओं में आरक्षण एवं बिजली पानी व रसोई गैस निशुल्क व जड़ी बूटियों पर स्थानीय समुदायों को अधिकार व जंगली जानवरों से जनहानि होने पर परिवार के एक सदस्य को पक्की सरकारी नौकरी और 50 लाख क्षति पूर्ति व फसल की हानि पर प्रतिनाली 5000/ रुपए की क्षतिपूर्ति व एक यूनिट आवास निर्माण के लिये लकड़ी व रेत-बजरी व पत्थर निशुल्क व शिक्षा व चिकित्सा निशुल्क एवं उत्तराखंडी ओबीसी घोषित हों भू-क़ानून बने जिसमें वन व अन्य भूमि को भी शामिल जाय और राज्य में तुरन्त चकबंदी हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.