पांच दिवसीय कार्यशाला का समापन, आशा दीदीयों को दिया गया शिशु देखभाल का प्रशिक्षण।

NEWS 13 प्रतिनिधि गणेश जोशी, चौखुटिया:-

चौखुटिया/ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सभागार में राष्टीय स्वास्थ्य मिशन के तत्वाधान में संचालित आशा कार्यकर्ताओं के पांच दिवशीय कार्यशाला का गुरुवार को विधिवत समापन हुआ। पांच दिवसीय कार्यशाला मैं छोटे बच्चो के लिए गृह आधारित देखभाल का प्रशिक्षण मुख्य रूप से आशा वर्करों को दिया गया। इसके अंतर्गत आशा वर्करों को नबजात शिशुओं के स्वास्थ्य की देखभाल, जन्म के बाद शिशुओं के 42 दिन तक गहन निगरानी रखना, शिशुओं को उचित ठोस आहार युक्त पोषण देना, कमजोर नबजात बच्चो पर विशेष निगरानी रखनाा, माता को प्रसब के दौरान जटिलताओं आदि विषयों पर प्रशिक्षित किया गया। कार्यशाला में महिला चिकित्सा अधिकारी डॉ0सोनी सिंह ने आशा वर्करों को स्वास्थ्य विभाग की रीढ़ बताया कहा विभाग की आशा कार्यकर्ती ही एक ऐसी महिला है।

यह भी पढ़े 👉 : गीतांजलि सेवा संस्थान, लोहाघाट ने डॉक्टर्स फ़ॉर यु के साथ मिलकर भींगराड़ा में लगाया मेडिकल।

जो समय पर गांव में सतर्कता बना कर गाव को जागरूक कर सकती है कार्यशाला के समापन पर ट्रेनर ब्लाक कार्यक्रम प्रबंधक अतुल सक्सेना ने कहा कि आशा कार्यकत्री का गाँव मे अंतिम व्यक्ति तक स्वास्थ्य के प्रति निगरानी रखना है और उचित सलाह देना है जिससे नबजात शिशुओं की सही देखभाल और गर्भवती महिला के जोखिम का ध्यान रखना जरूरी है। ट्रेनर खीम पाल सिंह भोज ने बताया कि गृह भ्रमण के दौरान आशा दीदी को कम वजन वाले नवजात शिशुओं पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है इस दौरान बच्चे की माता को ठोस आहार युक्त भोजन बच्चे को उपलब्ध कराना है तथा समय समय पर बच्चों के स्वास्थ्य की निगरानी रखनी आबश्यक है बताया की माता और उनके शिशुओं की उचित देखभाल से शिशु मृत्यु को रोका जा सकता है और समय समय पर बच्चों का सम्पूर्ण टीकाकरण भी आबश्यक हैं कार्यशाला में 80 आशाओ ने भाग लिया। कार्यशाला में आशा फेसलेटर मंजू सती, खिलपा देवी, नवीन कांडपाल, आशा हीरा देवी, अनिता, मोहनी, मंजू, उमा रही।

यह भी पढ़े 👉 : धनतेरस व दीपावली समेत आगामी त्योहारों में बाजारों में भीड़ होने की संभावना को देखते हुए इस दिन से बदल जाएगा हल्द्वानी शहर का रूट, देखें क्या रहेगी व्यवस्था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.