नैनीताल >> रामगढ़ में 108 की लापरवाही के चलते मां के गर्भ में ही दम तोड़ा गर्भस्थ शिशु ने, बामुश्किल जान बचीं प्रसुता की।

NEWS 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

यह भी पढ़े 👉 : उत्तराखंड के बाडाहोती में फिर देखी गई चीनी सैनिकों की मौजूदगी पहले भी क्षेत्र में कर चुके हैं घुसपैठ।

एक घंटे तक 108 का इन्तजार करते रहे और एक घंटे बाद बताया एम्बुलैंस नहीं आ रहीं हैं। तब तक दर्द से तड़पती रही प्रसुता। परिवार में बच्चे का आगमन खुशिया लेकिर आना होता है। किसी मां के लिए ये पल उसके जीवन का सबसे अनमोल पल होता है। लेकिन पहाड़ में ये खुशी हासिल करने के लिए महिलाओं को जिस दर्द और तकलीफ के साथ मानसिक दर्द से भी गुजरना पड़ता है। उसे देख अच्छे-अच्छे का कलेजा कांप जाता है। बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं के चलते कभी जच्चा की मौत हो जाती है। तो कभी नवजात को जान गंवानी पड़ती है। नैनीताल जिले में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया। यहां एंबुलेंस सेवा 108 की लापरवाही के कारण रामगढ़ क्षेत्र में गर्भस्थ शिशु ने अपनी मां के गर्भ में ही दम तोड़ दिया। महिला की भी जान पर बन आई थी। वो तो शुक्र है कि परिजन उसे किसी प्रकार अस्पताल तक ले आए। जिससे महिला की जान बच गई। पीड़ित महिला तारा रामगढ़ के हरिनगर क्षेत्र की रहने वाली है।

यह भी पढ़े 👉 : केदारनाथ धाम जाने के लिए हेली सेवा हुई शूरू इस प्रकार करें बुकिंग।

रविवार रात उसे करीब नौ बजे प्रसव पीड़ा शुरू हुई। दीपक चंद्र ने मदद के लिए 108 एंबुलेंस सेवा को फोन किया। और उन्हें बताया गया कि एक घंटे के भीतर एंबुलेंस पहुंच रही है। दीपक चंद्र के अनुसार एक घंटे बाद भी एंबुलेंस नहीं आई तो उन्होंने दोबारा फोन किया। तब उन्हें बताया गया कि एंबुलेंस नहीं आ रही है। एंबुलेंस का टायर पंक्चर हो गया है। तारा प्रसव पीड़ा से तड़प रही थी। पति दीपक ने किसी तरह निजी वाहन का इंतजाम कर तारा को रामगढ़ स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया परन्तु तब तक बहुत देर हो गई थी और तारा के शिशु की गर्भ में ही मौत हो गई थी। स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डॉ0गौरव कांडपाल ने बताया कि जब प्रसूता को वहां लाया गया गर्भस्थ शिशु मां के पेट की नाल में बुरी तरह से फंसा हुआ था। समय से इलाज नहीं मिलने से उसकी मृत्यु हो गई। हालांकि अब प्रसूता की तबीयत ठीक है। वहीं सीएमओ डॉ0भागीरथ जोशी ने कहा कि रामगढ़ का मामला संज्ञान में आया है। उसकी जांच कराई जा रही है।

यह भी पढ़े 👉 : नगर कोतवाली क्षेत्र के भोटियापड़ाव में मेज़र की पत्नी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *