गांधी आश्रम की बिगड़ती स्थिति पर जताई गई चिंता।

NEWS 13 प्रतिनिधि अल्मोड़ा:-

अल्मोड़ा/ क्षेत्रीय श्री गांधी आश्रम चनौदा में कुमाऊं मंडल के 6 जिलों के बिक्री और उत्पादन केंद्रों के सदस्यों की बैठक आयोजित की गई। जिसमें गांधी आश्रम की बिगड़ती आर्थिक स्थिति पर चिंता जताई गई। बाजार की प्रतिस्पर्धा के अनुरूप गांधी आश्रम का उत्पादन और बिक्री करने पर जोर दिया गया। क्षेत्रीय गांधी आश्रम के अध्यक्ष एडवोकेट कृष्ण सिंह बिष्ट की अध्यक्षता में हुई बैठक में अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, चम्पावत, बागेश्वर के बिक्री केंद्रों और उत्पादन केंद्रों के प्रभारियों ने अपने-अपने केंद्रों का वार्षिक आय-व्यय का ब्योरा रखा। अधिकांश बिक्री केंद्र वर्तमान में घाटे की स्थिति में हैं। बिक्री बढऩे के बजाय घटती जा रही है। इससे आश्रम के कर्मचारियों और दैनिक श्रमिकों की स्थिति भी खराब होती जा रही है। हालात यह हैं कि कई जगह कर्मचारियों को वेतन देने की समस्या खड़ी हो गई है। बैठक में एडवोकेट कृष्ण सिंह बिष्ट ने कहा कि प्रतिवर्ष आश्रम का घाटे में जाना चिंताजनक है। बिक्री को बढ़ाने के लिए वर्तमान बाजार की स्थिति और प्रतिस्पर्धा के अनुरूप संस्था को भी उत्पादन और बिक्री के तरीके खोजने होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि कुमाऊं मंडल में कई ऐसे केंद्र हैं जो कि घाटे में चल रहे हैं अथवा किराए के मकान में संचालित हैं।

यह भी पढ़ें 👉 : WATCH VIDEO >> शराब के नशें में मस्त होकर शर्ट उतार के बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाता प्रधानाचार्य।

जबकि कुछ केंद्र बंद होने के कगार पर हैं ऐसे केंद्रों का उत्थान किया जाए अथवा उन्हें बंद किया जाए। गांधी आश्रम के मंत्री धन सिंह परिहार ने कहा कि गांधी आश्रम को कच्चा माल और सरकार व खादी ग्रामोद्योग से मिलने वाली सब्सिडी की कमी के कारण भी आर्थिक स्थिति डांवाडोल हो रही है। इसका असर आश्रम केंद्रों में कार्य कर रहे कार्मिकों पर भी पड़ रहा है। इस मौके पर गांधी आश्रम की नई कार्यकारिणी का गठन भी किया गया। जिसमें प्रमोद कुमार वर्मा को मंत्री नियुक्त किया गया। यहां धन सिंह परिहार, शोबन सिंह बिष्ट, राजेंद्र सिंह राना, मोहन चंद्र पंत, पंकज पंत, उमेश जोशी, खड़क सिंह परिहार, प्रमोद कुमार वर्मा आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.