बागेश्वर जिले के निवासी 3 वर्षीय बच्चे के गले में फंसी पांव में पहनने की बिछिया, सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय के डाक्टरों ने बचाई जान।

NEWS 13 प्रतिनिधि हल्द्वानी:-

हल्द्वानी/ राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी के ईएनटी विभाग व चिकित्सकीय टीम की मेहनत ने मासूम के परिजनों के चेहरे पर मुस्कान ला दी। चिकित्सकों की मेहनत रंग लाई बच्चे की जान बच गयी और बच्चा स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गया है। ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. शहजाद अहमद ने बताया कि गरूड़ बागेश्वर निवासी 3 वर्षीय बच्चे कक्षित ने महिलाओं द्वारा पैर में पहनने वाली बिछिया निगल ली थी जिसे परिजन विगत दिवस 22 मार्च शाम को डा. सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय के आपातकालीन विभाग में लेकर आये। बच्चे का एक्सरे करवाया जिससे पता चला कि बिछिया खाने की नली के बीच में फंस गयी है। एनेस्थिीसिया विभाग की मदद से बच्चे को बेहोश करके डा. शहजाद अहमद ने मशीन से बिछिया को निकाला। बच्चे के ठीक हो जाने पर आज को बच्चे को डिस्चार्ज कर दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉 : मुख्यमंत्री धामी के साथ इन 8 कैबिनेट मंत्रियों ने ली शपथ, लगातार दूसरी बार मुख्यमंत्री बनने वाले राज्य के पहले नेता बने धामी।

ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. शहजाद अहमद, ईएनटी विभाग की टीम, व एनेस्थिीसिया विभाग की डा. प्रियंका चैरसिया व नर्सिग स्टाफ की मेहनत ने बच्चे व परिजनों के चेहरे पर मुस्कान ला दी। डा. अरूण जोशी प्राचार्य राजकीय मेडिकल ने बच्चे के स्वस्थ व डिस्चार्ज होने पर ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. शहजाद अहमद व चिकित्सकीय टीम को बधाई देते हुए कहा कि डाक्टरों की मेहनत बच्चे के लिए नयी जिंदगी लेकर आयी। प्राचार्य डा. जोशी ने आशा जताई कि चिकित्सक इसी तरह सेवा में जुटे रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.