बहुचर्चित स्टिंग मामले में सीबीआई कोर्ट ने सुनाया अपना फैसला।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि देहरादून:-

 देहरादून/ उत्तराखंड के बहुचर्चित स्टिंग मामले को लेकर आज सोमवार को सीबीआई कोर्ट में सुनवाई हुई।
इस बीच कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत को वॉयस सैंपल देने का फैसला सुनाया। इसके लिए उन्हें नोटिस जारी कर दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉 रुद्रप्रयाग, शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत पहुंचे अपने एक दिवसीय जनपद भ्रमण पर, राजकीय बालिका इंटर कालेज में आंवले के पौधे का किया रोपण।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अधिवक्ता मनमोहन कंडवाल ने बताया है कि विधायक उमेश शर्मा और द्वाराहाट से मदन बिष्ट को भी नोटिस जारी किए जाएंगे परन्तु संवैधानिक पद पर होने के कारण सीबीआई को पहले पूरी प्रक्रिया अपनानी होगी। अब सीबीआई अपने स्तर से वॉइस सैंपल लेने का समय तय करेगी।

यह भी पढ़ें 👉 रमेश पोखरियाल निशंक ने नहीं किया कोई विकास कार्य, जनता ने निशंक के सामने जमकर लगाए बीजेपी मुर्दाबाद के नारे, गुस्से में आगबबूला सांसद ने जमकर लताड़ा अधिकारियों को।

वर्ष 2016 में हरीश रावत के मुख्यमंत्री रहते हुए उनका एक स्टिंग करने का दावा वर्तमान विधायक उमेश कुमार ने में किया था। इसके बाद राज्य की राजनीति में भूचाल आ गया था। इसी बीच एक और स्टिंग सामने आया था इसमें विधायक मदन सिंह बिष्ट के होने का दावा किया गया।

यह भी पढ़ें 👉 ऊखीमठ >> हरेला पखवाड़ा के तहत विभिन्न क्षेत्रों में ग्रामीणों व सामाजिक संगठनो ने फलदार व छायादार पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण व संवर्धन का लिया संकल्प।

इसमें डॉ. हरक सिंह रावत के भी शामिल होने का दावा किया गया था। दोनों स्टिंग के बारे में उमेश कुमार ने दावा किया था कि हरीश रावत द्वारा सरकार को बचाने के लिए विधायकों की खरीद फरोख्त की डीलिंग की जा रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *