पिथौरागढ़ के धारचूला में बारिश ने मचाई जमकर तबाही।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि पिथौरागढ़

पिथौरागढ़/ बारिश का असर पहाड़ों पर देखने को मिलने लग गया है बारिश ने सीमांत क्षेत्र धारचूला में अपना रौद्र रूप दिखाया है जहां मंगलवार देर रात आई बारिश ने धारचूला शहर में जबरदस्त तबाही मचाई है यहां मालवा लोगों के घर और दुकानों में घुस गया यही नहीं बारिश से पिथौरागढ़ धारचूला राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहाड़ से भारी मात्रा में मलुवा आने से सड़क पूरी तरह से बंद हो गई है जिसके बाद जिला प्रशासन और बीआरओ की टीम ने कई घंटे के मशकत के बाद सड़क खोला है।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड में यहां दादी के साथ टहल रहे 7 वर्षीय मासूम को उठा ले गया गुलदार, परिजनों से मिले एसडीएम, तहसीलदार व वन विभाग को दिए निर्देश।

 उद्योग व्यापार मंडल अध्यक्ष भूपेंद्र थापा ने कहा है कि जल्द सुरक्षात्मक कार्य नहीं कराये गये तो सिंचाई विभाग कार्यालय में तालाबंदी कर दी जायेगी।वही धारचूला पिथौरागढ़ मार्ग पर चट्टान गिरने से बुधवार दोपहर बाद तक राष्ट्रीय राजमार्ग बंद रहा जहां काफी कठिनाई के बाद जिला प्रशासन ने मशीन लगाकर राष्ट्रीय राजमार्ग को खोला है राजमार्ग बंद हो से पर्यटक और स्थानीय लोगों के साथ-साथ आदि कैलाश जाने वाले यात्री भी फंसे रहे।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड के लिए मौसम विभाग ने किया भारी बारिश का अलर्ट, चारधाम यात्रा मार्गो पर एहतियात बरतने के दिए निर्देश, जल्द देगा मानसून भी दस्तक।

बारिश से एलधारा चट्टान का मलबा मल्ली बाजार में भर गया सड़कें, नालियां मलबे से पट गई हैं कीचड़ से पटे बाजार में व्यापारियों को अपनी दुकानें बंद करनी पड़ीं। आक्रोशित धारचूला वासियों ने सुरक्षात्मक कार्य जल्द पूरे नहीं कराये जाने पर सिंचाई विभाग कार्यालय में ताले ठोक देने की चेतावनी दी है।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड के लिए मौसम विभाग ने किया भारी बारिश का अलर्ट, चारधाम यात्रा मार्गो पर एहतियात बरतने के दिए निर्देश, जल्द देगा मानसून भी दस्तक।

धारचूला नगर के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग से लगी एलधार चट्टान दो वर्ष पूर्व दरक गई थी जिससे आधा दर्जन मकान ध्वस्त हो गये और कई मकान क्षतिग्रस्त हो गये थे ऐसे में एक बार फिर से बारिश ने लोगों के सामने मुसीबत खड़ी कर दी है दो वर्ष पूर्व आपदा का कहर झेल चुके मल्ली बाजार के लोगों को चिंता सताने लगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *