बिनसर वन्यजीव अभयारण्य में हुए अग्निकाण्ड में 18 दिन तक मौत से लडने के बाद आखिर जिंदगी की जंग हार गया कुंदन।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि अल्मोड़ा

अल्मोड़ा/ बीती 13 जून को अल्मोड़ा बिनसर वन्यजीव अभ्यारण्य में हुई वनाग्नि की घटना में गंभीर रूप से झुलसे पीआरडी जवान कुंदन नेगी ने 18 दिन बाद एम्स दिल्ली में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। बिनसर वनाग्नि में अब मरने वाले की संख्या छह हो गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार सुबह तड़के दिल्ली एम्स में उपचार के दौरान पीआरडी जवान कुंदन नेगी उम्र 44 वर्ष निवासी खाखरी, भैसियाछाना ब्लाक की मौत हो गई है। 13 जून को बिनसर अभ्यारण्य में भीषण आग फैल गई थी।

यह भी पढ़ें 👉 बागेश्वर, युवक को मौत के घाट उतार कर वाहन से लटकाया, मौत से पहले बनाया वीडियो।

जिसके बाद आग को नियंत्रण करने के लिए वन विभाग के आठ कर्मचारी गए हुए थे। लेकिन आग से गंभीर रूप से झुलसने से चार वन कर्मियों त्रिलोक मेहता, करन आर्या, दिवान राम, पूरन सिंह की मौके पर ही मौत हो गई थी। जबकि एक वन कर्मी कृष्ण कुमार उम्र 21 वर्ष निवासी भेटुली की 10 दिन पहले बीते 20 जून को दिल्ली एम्स में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। दो झुलसे वन कर्मियों भगवत सिंह उम्र 38 वर्ष निवासी भेटुली व कैलाश भट्ट, निवासी घनेली उम्र 54 वर्ष का दिल्ली एम्स में इलाज चल रहा है।

यय भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड की इस जेल में कैदी की हुई संदिग्ध परिस्थितियों मौत, पत्नी ने लगाए पुलिस पर गंभीर आरोप।

चिकित्सकों के मुताबिक घायलों की हालत स्थिर बताई जा रही है। पीआरडी जवान की मौत की सूचना गांव में मिलते ही शोक की लहर छा गई। रात तक वन कर्मी का शव उसके पैतृक गांव पहुंचेगा। जिसके बाद कल सोमवार को अंतेष्टि की जाएगी। प्रभागीय वनाधिकारी सिविल सोयम हेम चंद्र गहतोड़ी ने वन कर्मी की मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि घायलों की स्थिति ठीक है। पीड़ितों को हर संभव मदद दी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *