चौखुटिया, पानी की बूंद-बूंद के लिए हलकान काश्तकार, सिंचाई पानी नहीं पहुचने से नाराज काश्तकारों ने किया प्रर्दशन, धान पौध, दलहनी फसलें सूखी।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि गणेश जोशी चौखुटिया

चौखुटिया/ तल्ला गेवाड क्षेत्र में रामगंगा बाई नहर से सिंचाई पानी नहीं पहुंचने से आक्रोशित ग्रामीण लघु काश्तकारों ने भगोती मुख्य मोटर मार्ग पर प्रर्दशन किया।
काश्तकारों का कहना है कि धान पौध पूर्ण रूप से सूख चुकी है। ग्रामीणों के आगे अब खेती बचाने का संकट खड़ा हो गया है।

यह भी पढ़ें 👉 भीमताल में बारिश ने बरपाया कहर लोगों के घरों में घुसा मलवा, लोगों ने घरों से भागकर रिश्तेदारों के घरों में ली शरण।

बार-बार मांग के बाद विभाग इस बार ग्रामीणों को अभी तक धान पौध सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध नहीं कर पाया। आक्रोश व्यक्त कर कहा कि मंगलवार तक सिंचाई पानी नही पहुंचाया गया तो बुधवार से सहायक अभियंता कार्यालय में तालाबंदी कर अनिश्चित कालीन धरना-प्रर्दशन किया जाएगा।
इस क्षेत्र के लघु काश्तकारों को इस बार दोहरी मार झेलनी पड रही है ।जहां सिंचाई विभाग नहर में आज तक पानी उपलब्ध नहीं कर पाया है।

यह भी पढ़ें 👉 अल्मोड़ा जिले में सराईखेत से दिल्ली जा रहे 34 यात्रीयो की बाल-बाल बची जान।

वही इस क्षेत्र से इंद्र देवता भी रूठ गये.हैं। अभी तक क्षेत्र में बारिश नहीं होने से भीषण गर्मी पड़ी है। जिससे धान पौध के अलावा दलहनी फसलें भी सूख गई हैं। कृषि पर निर्भर क्षेत्र के अनेक काश्तकारों के आगे अब रोजी-रोटी का संकट आ गया है। वही जानवरों के लिए चारे की भी समस्या पैदा होने लगी है।

यह भी पढ़ें 👉 चम्पावत जिले में शराब पार्टी कर रहे दोस्तों ने नशे में अपने ही साथी को फेंका छत से नीचे, युवक गंभीर हालत में हल्द्वानी स्थिति सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती।
प्रर्दशन में प्रगतिशील काश्तकार कृपाल सिंह, पूर्व प्रधान भगोती चन्द्रशेखर मासीवाल,प्रताप सिंह, बसंती देवी,राजेन्द्र सिंह, नवीन कुमार, सुरेश आर्या, कैलाश चन्द्र, सौरव सिंह, घनश्याम नेगी, गंगा दत्त जोशी आदि रहे।
क्षेत्र में लगभग 13 किलोमीटर लम्बी बाई नहर से सिंचाई व्यवस्था होती है वर्तमान में सिंचाई पानी मुख्य हैड से लगभग तीन -चार किलोमीटर चिनौनी तक ही पहुंच पाया है।

यह भी पढ़ें 👉 पिथौरागढ़, भारी बारिश के चलते जिले के कई सड़कें हुई अवरुद्ध, लोगों को आवाजाही में करना पड़ रहा है भारी परेशानियों का सामना।

हैड क्षेत्र में काश्तकार रोपाई कर रहे हैं ।जबकि तल्ला गेवाड में रोपाई के लिए बोया गया धान पौध भी सूख गया है। पटलगांव ,कैनीखोला,नगारसीम,खज्यूरा,जौलचरा, भगोती, मज्यूर, फाली, जेठुआ, पुरानाडांग,त्याड,दीपाकोट आदि गांव अभी तक सिंचाई पानी से वंचित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *