बड़ी खबर, उत्तर प्रदेश के हाथरस में सत्संग मचीं भगदड़ अबतक 86 लोगों की हुई मौत सैकड़ों घायल, मरने वालों की बड सकती है संख्या।

न्यूज़ 13 ब्यूरो

हाथरस/ उत्तर प्रदेश के जनपद हाथरस में मंगलवार को एक सत्संग के दौरान मची भगदड़ में सत्संग में आए लगभग 86 श्रद्धालुओं की दर्दनाक मौत हो गई। जिससे शासन प्रशासन में हड़कंप मचा गया। इस हादसे में मरने वालों में अधिकतर महिलाएं व बच्च शामिल है। मौत की पुष्टि जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी उमेश कुमार त्रिपाठी ने की हैं। हादसे में मृतकों को आंकडा बढ सकता है। हादसा जनपद के सिकंदराराऊ थानाक्षेत्र के फुलरई गांव में चल रहे भोले बाबा के सत्संग में हुआ। जनपद हाथरस के एटा बार्डर पर होने के नाते एटा के प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे है।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड में यहां विजिलेंस ने जिला आबकारी अधिकारी को 70 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोचा।

उत्तर प्रदेश के हाथरस स्थित रतिभानपुर में सत्संग के दौरान भगदड़ मच गई। भगदड़ मचने से 86 लोगों की मौत हो गई है। हादसे में कई महिलाओं और बच्चें के भी घायल हो गए हैं। इस हादसे पर संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय ने जिला प्रशासन को घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचाकर उनके उपचार कराने और मौके पर राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एडीजी आगरा और कमिश्नर अलीगढ़ के नेतृत्व में घटना के कारणों की जांच के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉 अल्मोड़ा जिले में यहां घर के समीप घास काट कर रही महिला को गुलदार ने किया गंभीर रूप से घायल, महिला को उपचार के लिए किया गया हायर सेंटर के लिए रेफर।

सीएम योगी के निर्देश के बाद सरकार के दो वरिष्ठ मंत्री और मुख्य सचिव के साथ डीजीपी भी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं। फिलहाल शवो की शिनाख्त करने का प्रयास किया जा रहा है।

मौके पर लगे लाशों के ढेर में तलाश रहे लोग

हाथरस। हादसे के बाद शवो की शिनाख्त के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। लोग लाशों के ढेर से अपनों को तलाश करने का प्रयास कर रहे है। तलाश करने वाले हर कोई यही कह रहा था की इसमें हमारा अपना कोई न हो। लाशों के ढेर और परिजनों का करुण क्रंदन माहौल में सनसनी पैदा कर रहा है।

यह भी पढ़ें 👉 दुखद, उतराखंड में यहां एएसआई की हुई करंट लगने से मौत, पुलिस महकमे में शोक़ की लहर।

लाशों के ढेर को देखकर बड़ा से बड़ा पत्थर दिल भी वहा नही टिक पा रहा था।

100 से अधिक घायल एटा मेडिकल कालेज में भर्ती

हाथरस सत्संग में पूजा की समाप्ति के बाद प्रसाद पाने और जल्दी निकलने की होड़ के चलते हुई भगदड़ में 77 लोगो की मौत हो गई। जिनके शवो को शिनाख्त करने का प्रयास किया जा रहा है। इसी हादसे में करीब 100 लोगो घायल भी हो गए जिन्हें करीबी एटा मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। सत्संग स्थल जनपद हाथरस के बार्डर पर बनाया गया था जहां से एटा जनपद नजदीक था इस कारण सभी घायलों को एटा के मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है दोनो जनपदों के अधिकारी मौके पर पहुंच रहे है।

गर्मी में जरूरत से ज्यादा भीड़ बनी हादसे का सबब

हाथरस सत्संग में जरूरत से ज्यादा भीड़ और गर्मी अधिक होने के कारण कई श्रद्धालु बेहोश हो गए। इस खबर के फैलने से पंडाल में भगदड़ मच गई।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड में अब यहां दिया नाबालिग ने शिशु को जन्म, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने लिया संज्ञान।

भगदड़ के चलते कई श्रद्धालु दबे गए। इस घटना की सूचना मिलते ही पुलिस-प्रशासन मौके पर पहुंच गई है। स्थित को नियंत्रण में लाने की कोशिश जारी है। फिलहाल, जांच के बाद आगे की जानकारी सामने आएगी बताया जा रहा है की कम जगह पर इतना बड़ा आयोजन किया गया जिसमे सुरक्षा के कोई उपाय नहीं किए गए थे जिसके कारण भगदड़ मच गई।

एटा के एसएसपी ने क्या कहा

हाथरस। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राकेश प्रताप सिंह ने कहा कि ये भोले बाबा के सत्संग में हाथरस जनपद के सिकंदराराऊ थान क्षेत्र के फुलरई गाब में हादसा हुआ। एटा के एसएसपी राजेश कुमार सिंह ने कहा कि हाथरस जिले के मुगलगढ़ी गांव में एक धार्मिक आयोजन चल रहा था तभी भगदड़ मच गई।

यह भी पढ़ें 👉 सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा प्लास्टिक के चावलों का वीडियो, जानिए फोर्टिफाइड चावलों की क्या है सच्चाई।

एटा अस्पताल में अब तक 27 शव आ चुके हैं जिनमें 23 महिलाएं 3 बच्चे और 1 पुरुष शामिल हैं। घायल अभी अस्पताल नहीं पहुंचे हैं। आगे की जांच की जा रही है। इन 27 शवों की पहचान की जा रही है।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने लिया संज्ञान

हाथरस। हाथरस में सत्संग के दौरान भगदड़ मचने से 27 लोगों की मौत पर हादसे पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने जिला प्रशासन को घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचाकर उनके उपचार कराने और मौके पर राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एडीजी आगरा और कमिश्नर अलीगढ़ के नेतृत्व में घटना के कारणों की जांच के निर्देश दिए हैं। सीएम योगी के निर्देश के बाद सरकार के दो वरिष्ठ मंत्री और मुख्य सचिव के साथ डीजीपी भी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।

प्रत्यक्षदर्शी बोले- भगदड़ में महिलाएं और बच्चे गिरते चले गए

हाथरस। हादसे को अपनी आंखों से देखने वाली महिला ने बताया कि सत्संग में बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ी हुई थी। सत्संग समाप्त हुआ उसके बाद लोग वहां से जाने लगे इसी बीच निकलने की जल्दी में भगदड़ मच गई। लोग एक दूसरे को देख ही नहीं रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉 चौखुटिया, पानी की बूंद-बूंद के लिए हलकान काश्तकार, सिंचाई पानी नहीं पहुचने से नाराज काश्तकारों ने किया प्रर्दशन, धान पौध, दलहनी फसलें सूखी।

महिलाएं और बच्चे गिरते चले गए। एक और महिला ने बताया कि हम दर्शन करने आए थे। बहुत भीड़ थी। जब भगदड़ मची तो मैं और मेरा बच्चा भी भीड़ के नीचे आ गया।

हाथरस की दुर्घटना दुर्भाग्यपूर्ण- सीएम योगी

हाथरस। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोशल मीडिया एक्स पर कहा- जनपद हाथरस की दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में हुई जनहानि अत्यंत दुःखद एवं हृदय विदारक है। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं। संबंधित अधिकारियों को राहत एवं बचाव कार्यों के युद्ध स्तर पर संचालन और घायलों के समुचित उपचार हेतु निर्देश दिए हैं। उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी जी, संदीप सिंह घटना स्थल के लिए रवाना हो चुके हैं तथा प्रदेश के मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक को घटना स्थल पर पहुंचने हेतु निर्देशित किया है। एडीजी, आगरा और कमिश्नर, अलीगढ़ के नेतृत्व में टीम गठित कर दुर्घटना के कारणों की जांच के निर्देश भी दिए हैं। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्माओं को अपने श्री चरणों में स्थान तथा घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

यह भी पढ़ें 👉 चम्पावत, ओखलडूगा के समीप नहाते वक्त झरने में डूबकर हुई मौत, एसडीआरएफ ने निकाला शव।

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यालय ने ट्वीट किया यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने हाथरस जिले में हुई दुर्घटना में मरने वालों के शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की भी कामना की है। उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचाकर उनके समुचित उपचार और घटनास्थल पर राहत कार्य तेज करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एडीजी आगरा और कमिश्नर अलीगढ़ के नेतृत्व में घटना के कारणों की जांच के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *