आने वाले 24 घंटों में देहरादून सहित इन जिलों के लिए भारी से बहुत भारी बारिश का अलर्ट, सचिव आपदा प्रबंधन ने अधिकारियों को दिए निर्देश।

न्यूज़ 13 प्रतिनिधि देहरादून

देहरादून/ अगले 24 घंटों में उत्तराखंड के देहरादून, टिहरी, हरिद्वार, उत्तरकाशी जिलो में कहीं कहीं तथा रुद्रप्रयाग जनपद के कुछ स्थानों में भारी से बहुत भारी वर्षा की संभावना है।मौसम विभाग द्वारा रविवार को उत्तराखंड के अधिकांश जनपदों में भारी से बहुत भारी बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विनोद कुमार सुमन ने उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के आईटी पार्क स्थित राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र (कंट्रोल रूम) से जनपदों की स्थिति की समीक्षा की। इस बीच उन्होंने सभी जिलों के जिला आपदा प्रबंधन अधिकारियों को एलर्ट पर रहने तथा हालात पर नजर बनाए रखने के निर्देश दिए। रविवार को सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विनोद कुमार सुमन राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र पहुंचे और वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सभी जिलों के आपदा प्रबंधन अधिकारियों से वर्तमान स्थिति तथा जिलों में हो रही बारिश को लेकर जानकारी ली।

यह भी पढ़ें 👉 हल्द्वानी से पर्वतीय क्षेत्रों के लिए जाने वाले सावधान रहें भारी बारिश के चलते नैनीताल जिले में 33 सड़कें हुई बंद, सभी नदियां उफान पर।

उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग स्टेट हाईवे के साथ ही ग्रामीण सड़कों को लेकर निर्देश दिए कि जो भी मार्ग बंद हैं उन्हें जल्द से जल्द खुलवाना सुनिश्चित किया जाए ताकि आम जनता को किसी प्रकार की दिक्कत न हो। इस बीच सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास ने स्टेट तथा राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात संचालन की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि यदि मार्ग बंद हैं तो साइनेज लगाए जाएं तथा लोगों तक इसकी जानकारी पहुंचाई जाए। साथ ही मार्ग खुलने की भी जानकारी आम जनमानस तक विभिन्न माध्यमों से पहुंचाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने ग्रामीण सड़कों को भी जल्द से जल्द खोलने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉 हल्द्वानी से पर्वतीय क्षेत्रों के लिए जाने वाले सावधान रहें भारी बारिश के चलते नैनीताल जिले में 33 सड़कें हुई बंद, सभी नदियां उफान पर।
उन्होंने नदियों के जलस्तर को लेकर भी डीडीएमओ से जानकारी ली और किसी भी आपात स्थिति को लेकर तुरंत राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र में सूचना भेजने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने नदियों का जलस्तर बढ़ने पर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजने और लोगों को नदी-नालों से दूर रहने को लेकर जागरूक करने को कहा। इस बीच यूएसडीएमए के संयुक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी मो० ओबैदुल्लाह अंसारी, ड्यूटी ऑफिसर आलोक कुमार सिंह, एसई ओसी के दिवस प्रभारी रोहित कुमार आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉 द्वाराहाट, दिल्ली से छुट्टी पर घर जा रहें युवक का घर से लगभग 11 किलोमीटर पहले भूमकिया गांव के जंगल में संदिग्ध अवस्था में मिला शव।

सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विनोद कुमार सुमन ने कहा कि सोशल मीडिया पर विभिन्न आपदाओं को लेकर भ्रामक तथा फर्जी पोस्ट डाले जाने की सूचना मिली है। पुराने वीडियो तथा फोटो को वर्तमान का बताकर गलत तरीके से प्रसारित किया जा रहा है। उन्होंने सभी डीडी एमओ से कहा कि आम जनता में भय और डर का माहौल न रहे इसलिए ऐसे भ्रामक सोशल मीडिया पोस्ट का तुरंत खंडन किया जाए।

यह भी पढ़ें 👉 कोटद्वार में हुई आफ़त की बारिश लोगों के घरों में घुसा पानी सड़कों पर बही नदियां।

सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विनोद कुमार सुमन ने समूचे राज्य में सूखी नदियों पर खास तौर पर नजर रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भारी बारिश के चलते सूखी नदियों में भी खतरा उत्पन्न हो सकता है। उन्होंने लोगों से भी सूखी नदियों में न जाने तथा वाहन इत्यादि न खड़े करने की अपील की है।

यह भी पढ़ें 👉 उतराखंड में भारी बारिश को देखते हुए चारधाम यात्रा की गई स्थगित, आयुक्त गढ़वाल ने की यह अपील।

सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विनोद कुमार सुमन ने सभी जिलों को निर्देश दिए कि आपदा प्रभावितों को राहत राशि वितरित करने में किसी प्रकार का विलंब नहीं होना चाहिए। उन्होंने 15 जून से लेकर अब तक कितनी राहत राशि बंट चुकी है तथा कितने मामले लंबित हैं इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को अभी तक राहत राशि नहीं बांटी गई है उन तक हर हाल में जल्द से जल्द राहत राशि पहुंचाई जाए।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड में यहां भरभराकर गिरी चट्टान दबकर मोटरसाइकिल सवार दो लोगों की मौके पर ही हुई दर्दनाक मौत।

सभी जिलों के कंट्रोल रूम में इंटरनेट की सुविधा तथा कनेक्टिविटी सुचारु तथा निर्बाध रूप से बनी रहे इसे लेकर सचिव आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विनोद कुमार सुमन ने सभी जिला आपदा प्रबंधन अधिकारियों को निर्देश दिए कि सिर्फ एक नेटवर्क के भरोसे न रहें और अन्य कंपनियों के नेटवर्क की भी सेवाएं लें ताकि यदि किसी एक की कनेक्टिविटी बाधित हो तो दूसरे नेटवर्क का प्रयोग किया जा सके। उन्होंने कहा कि किसी भी आपदा से प्रभावी तरीके से निपटने के लिए यह जरूरी है कि सूचनाओं का आदान- प्रदान समय पर हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *